Sunday, February 24, 2008

फर्ज़ और क़र्ज़

क़लम का तक़ाज़ा है -
हक़ीकत बयाँ करूँ।
तेरा ये क़र्ज़ है -
दिलकश ज़ुबां कहूँ।

क़र्ज़ और फर्ज़ में तकरार हो,
तो ये हक़ अदा करूँ ।
बेशक, सर हो क़लम तो हो,
क़लम को न क़लम करूँ ।

No comments:

Post a Comment