Thursday, May 24, 2012

यह जगह अजब निराली है

पिछ्ले सप्ताह मैं जयपुर गया था और वहां एक निराली जगह देखी
शब्दों में उसका बयां मुश्किल है. यह एक कविता वहीं लिखी थी
यह शायद आपको बता पाये कि यह जगह कैसी है. आप नैट पर
उसे देखें http://www.treehouseresort.in


यह जगह अजब निराली है

-   पेड़ों पर रहते हैं
          लकड़ी के घर में
          चिड़ियों के जैसे

कमरे में हो लगता है घर में हो
बाहर निकलो जंगल सा लगता है
पर इंतज़ाम सभी यहां रहता है
जंगल में मंगल सा लगता है

चिड़ियों को देखो इतराते पेड़ों पर
अठखेली करतीं हैं कितनी
सुन लो सब बातें उनकी
खुश हैं कितनी गाना गातीं
मस्ती में उड़तीं ऊपर, नीचे आतीं 

तुम भी आओ दौड़ लगाओ
उछलो कूदो गाना गाओ
सांस को अपनी, जोर से खींचो
अच्छी है ये, साफ भी कितनी
रोज की मरा-मारी छोड़ो
आफिस भूलो, घर को त्यागो
एक बार फिर खुशी से जी लो
अपने मनको हलका करलो
अपनी बैट्री चार्ज भी करलो

मनको अपने हलका करलो
मनको अपने हलका करलो