Sunday, February 24, 2008

परिचारिका

विमान की परिचारिका
फिल्मी तारिका से कम नहीं
आस्मान पर उड़ती है
पर ज़मीन पर चलती है।

सभी की देखभाल
अन्नपूर्णा का काम
हर समय अपने पैरों पर खड़ी
बिना किसी के सहारे अपने भरोसे
दुनिया घूमती है दुनिया देखती है
दुनिया को साफ दिखती है -
किसी का सहारा न लो
अपने पैरों पर खड़े हो
बन – ठन कर रहो, पर तन कर रहो
हौसला सातवें आस्मान पर हो
दुनिया छोटी है मुश्किल नहीं
अपनी मु्ट्ठी में कर लो
बस अपने सहारे से रहो ।

No comments:

Post a Comment