Tuesday, June 27, 2017

जीवन - मुट्ठी भर रेत

जीवन मुट्ठी भर रेत
डरता हूं फिसल न जाए
हाथ से निकल न जाए
जिंदगी की घडि़यां
ये सुंदर, मधुर, सुहाने क्षण।
कसकर पकड़ लेता हूं
मुट्ठी में जकड़ लेता हूं

यह फिसलने लगता है
पकड़ से निकलने लगता है।
तेजी से - और तेजी से।
डरता हूं कैसे रोकूं इसको
पकड़ ढीली होती है
यह नहीं फिसलता तेजी से
नहीं निकलता फुर्ती से
रहता है मेरे साथ ज्यादा देर
आनंदित करता है, सुख देता है।

मुझको विश्वास दिलाता है फिर से
जीवन है मुट्ठी भर रेत
बस मुट्ठी भर रेत

No comments:

Post a Comment