Sunday, December 30, 2012

तुम कुछ करते क्यों नहीं?

गलत कहते हैं
सब गलत कहते हैं
जो लोग कहते हैं
वो लड़की मर गयी
दामिनी या अमानत कहते थे जिसे

ये नादान नहीं जानते
वो बस मरी है
गयी नहीं है कहीं
यहीं है हम सब के बीच
हमारे दिल में है छाप उसकी
दिमाग में है तस्वीर उसकी
रोम-रोम में बस गयी है वो
कानों में आवाज़ गूंजती है उसकी
बार-बार पूछ्ती है वो -

तुम कुछ करते क्यों नहीं
किस बात का डर है तुम्हें
क्या नहीं चाहते तुम
किसी और के साथ न हो
जो मैंने सहा था
फिर कुछ करते क्यों नहीं
किस बात का डर है तुम्हें

No comments:

Post a Comment