Saturday, December 29, 2012

शर्म करो

बंदर आपस में लड़ते रह गये और वो स्वर्ग चली गयी
कुछ मुंह शर्म से लाल हो गये कुछ पर कालिख पुत गयी
 

No comments:

Post a Comment