Wednesday, May 17, 2017

न कोई आशा, न प्रतीक्षा

समुद्र के बीच
खड़ा ढूँढता था
जल को, प्यासा
एकदम अकेला।

चकोर सी
व्यथा नहीं थी उसकी।
चकोर अच्छा है।
जिसे प्रतीक्षा है,
स्वाति नक्षत्र के जल की।
विश्वास है, भरोसा है,

एक दिन अवश्य आयेगी।
तृप्त कर उसे
प्यास बुझा देगी।
शक्ति, हिम्मत और सहारा देगी
पुनः अगले साल तक प्रतीक्षा की।

वह बेचारा
बस खड़ा था
समुद्र के बीच
प्यासा, एकदम अकेला
न किसी की प्रतीक्षा
न कोई आशा।

No comments:

Post a Comment