Friday, September 23, 2011

सन्नाटा है, अब यहां चोरी नहीं होती

कुत्ता भौंकता है
वो सो नहीं पाता
दिन – रात जागता है
पड़ा सोचता है
कुत्ता क्यों भौंकता है ?

शायद कुत्ता नहीं जानता
वो दिन गये जब चोर आते थे
रात को दबे पांव आते थे
कोई आहट न हो, घबराते थे
कुत्ते भौंकें तो भाग जाते थे
लोगों की जाग से डरते थे
पकड़े जाने पर पिटने का खतरा था
चोर मीनार पर लटकायेंगे
जनता में बदनामी होगी, डरते थे
चोरी कभी-कभी करते थे
सबसे डर कर, छुपकर रहते थे

हवा बदल गयी है अब
चोर नहीं आते यहां,
बस डाकू बसते हैं
दिन दहाड़े डाका डालते हैं
थाने में डाके की रपट नहीं होती
डाकू को कभी सज़ा नहीं होती

डाकू किसी से नहीं डरते
कुत्तों के भौंकने से खुश होते हैं
अच्छा है लोग जाग जायेंगे
उनका लोहा मानेंगे, बड़कर स्वागत करेंगे
आने का नज़राना, जाने का शुक्रिया देंगे
यकीन है उन्हें, पकड़ में नहीं आयेंगे
आये भी तो छूट जायेंगे
अपने बच्चों को सिखाते हैं
जो मन आये कर लो
जब चाहो जितना लूट लो

लोग चुप हैं, सहमे रहते हैं
सन्नाटा है हर ओर
अब यहां चोरी नहीं होती
बस डाके पड़ते हैं
कोई चोर नहीं है यहां
कभी चोरी नहीं होती

No comments:

Post a Comment