Saturday, March 19, 2011

पत्थर के पत्थर रह जाओगे

नन्हीं बच्ची
है कितनी अच्छी
जो बोल पडी थी मुझसे आज
- क्यों भेजी तुमने बात पुरानी
आज नहीं क्यों लिखते हो
मुझको तो अब लगता है
तुम काम नहीं कुछ करते हो

मैं सोच मैं डूबा बैठा हूं
हम सब क्या करते रहते हैं?

जो पहले देखा दोहराया
जो रट रख्खा था उगला दिया
कल तक हम जो करते थे
बस आज वही फिर करते हैं
दिन महीने साल न जाने कितने
बेकार में यूंही निकल गये
हम जैसे थे वैसे ही बने रहे
नया नहीं कुछ सीखा हमने
नया नहीं कुछ बोला हमने

वो देखो वो पत्थर
वो वर्षों से यहां पडा
जाडा गर्मी सरदी बारिश
सदियां की सदियां निकल गयीं
बदल नहीं कुछ इसमें पाया

क्या अंतर है हम दोनों में?
क्या इसको जीना कहते हैं?

एक बात की गांठ करो तुम
रोज नया कोई काम करो तुम
नया नहीं कुछ कर पाओगे
पत्थर के पत्थर रह जाओगे

No comments:

Post a Comment